AIFF के महासचिव क्यो हुए बर्खास्त, जिसके बाद बैठक बुलानी पड़ी

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ AIFF ने महासचिव शाजी प्रभाकरण की बर्खास्तगी पर चर्चा के लिए मंगलवार को कार्यकारी समिति की बैठक बुलाई है।

HIGHLIGHTS

  • प्रभाकरण को सात नवंबर को विश्वासघात करने के आरोप में महासचिव पद से हटा दिया गया था
  • वह अब भी AIFF के महासचिव हैं
  • मुझे AIFF सदस्यों की अगली बैठक में आमंत्रित किया जाए : प्रभाकरण39879 untitled design 2022 11 04t184537713

उच्च न्यायालय द्वारा हालांकि उनकी बर्खास्तगी पर रोक लगाने के आदेश के बावजूद उन्हें आमंत्रित किये जाने की संभावना नहीं है। बैठक के एजेंडे में एक विषय का उल्लेख है, महासचिव के पद से डॉ. शाजी प्रभाकरण की बर्खास्तगी और सेवा समाप्ति। प्रभाकरण ने पीटीआई-भाषा से कहा, नहीं, मुझे AIFF की मंगलवार की कार्यकारी समिति की बैठक के लिए आमंत्रित नहीं किया गया है। उन्होंने कहा, मैं वहां रहना चाहता था और इस मामले में अपना पक्ष प्रस्तुत करना चाहता था। मैंने सदस्यों को एक पत्र भी लिखा था लेकिन फिर भी मुझे आमंत्रित नहीं किया गया।

प्रभाकरण को सात नवंबर को विश्वासघात करने के आरोप में महासचिव पद से हटा दिया गया था, लेकिन दिल्ली उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने आठ दिसंबर को उनकी बर्खास्तगी पर अंतरिम रोक लगाने का आदेश दिया था। अदालत ने 19 जनवरी के अपने नवीनतम आदेश में कहा था कि प्रभाकरण को AIFF की आपातकालीन समिति ने बर्खास्त कर दिया था, जबकि महासंघ के संविधान में यह प्रावधान है कि केवल कार्यकारी समिति के पास ही ऐसा करने की शक्ति है। प्रभाकरण अपने पत्र में कहा कि वह अब भी AIFF के महासचिव हैं और उन्हें अपना पक्ष समझाने के लिए बैठक में आमंत्रित किया जाना चाहिए।96107857

प्रभाकरण ने कार्यकारी समिति के सदस्यों को संबोधित पत्र में लिखा, आप सभी से मेरा विनम्र अनुरोध है कि मुझे AIFF सदस्यों की अगली बैठक में आमंत्रित किया जाए। चाहे वह कार्यकारी समिति की बैठक हो या वार्षिक आम बैठक (या, उस मामले के लिए, कोई अन्य औपचारिक या अनौपचारिक बैठक), या आगे किसी और बैठक की योजना बनायी जा रही हो। उन्होंने कहा, मैं ईमानदारी से हर उस सवाल का जवाब देना चाहूंगा जो हमारे माननीय सदस्यों के मन में हो या उन चीजों पर हो जहां उन्हें बताया गया हो कि मैंने कुछ गलत किया है। प्रभाकरण ने कहा, मैं अब भी AIFF का महासचिव हूं और इस पद पर रहने के कारण वहां रहना मेरा अधिकार है। उन सभी सदस्यों को मेरा पक्ष सुनना चाहिए, जिन्होंने मुझे ये महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है।

दक्षिण मध्य एशिया के लिए फीफा के पूर्व विकास अधिकारी और दिल्ली फुटबॉल के पूर्व अध्यक्ष प्रभाकरण ने कहा कि वह अपने जीवन में कभी किसी अनियमितता का हिस्सा नहीं रहे हैं। उन्होंने कहा, अगर कोई बिना किसी सबूत के गैर-जिम्मेदाराना और बिल्कुल झूठे आरोप लगाकर मेरी विश्वसनीयता को खत्म करना चाहता है, तो क्या आपको लगता है कि मुझे दूर रहकर ऐसा होने देना चाहिए? उन्होंने 24 दिसंबर को लिखे इस पत्र में कहा, मेरे लिए फुटबॉल मेरा जीवन और भगवान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten − 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।