Search
Close this search box.

नूपुर शर्मा को मिला हथियार का लाइसेंस, लगातार मिल रही थीं धमकियां

बीजेपी की निलंबित नेता नूपुर शर्मा काफी चर्ची में बनी रहती है। अपने बयानों को लेकर लगातार वो सुर्खियों में बनी रहती है। उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ बयान दिया जिसके बाद लोगों ने उनका खुब विरोध किया था। उन्हें धमकियों मिलनी भी शुरु हो गई थी।

बीजेपी की निलंबित नेता नूपुर शर्मा काफी चर्ची में बनी रहती है। अपने बयानों को लेकर लगातार वो सुर्खियों में बनी रहती है। उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ बयान दिया जिसके बाद लोगों ने उनका खुब विरोध किया था। उन्हें धमकियों मिलनी भी शुरु हो गई थी।
जिसके बाद अब उन्होंने अपनी सुरक्षा के लिए हथियार लाइसेंस अप्लाई किया था। जिसके बाद उन्हें अब हथियार रखने का लाइसेंस मिल गया है। नूपुर शर्मा ने अपनी जान को खतरा बताते हुए गन लाइसेंस के लिए अर्जी दी थी। पैगंबर मोहम्मद विवाद के बाद से उन्हें लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही थीं।दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने गुरुवार 12 जनवरी को इसकी जानकारी दी है। 
धमकियां मिलने के बाद लिया लाइसेंस
बता दें नूपुर शर्मा ने जून 2022 में एक टीवी डिबेट पर पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी की थी। इसके बाद काफी विरोध हुआ था। कई राज्यों में उनके खिलाफ मामले भी दर्ज कराए गए। कथित तौर पर उन्हें लगातार जान से मारने की धमकियां भी मिल रही थीं।विवाद को देखते हुए बीजेपी ने भी उन्हें पार्टी निष्कासित कर दिया था। धमकियां मिलने पर नूपुर शर्मा ने अपनी सुरक्षा के लिए हथियार रखने की अनुमति मांगी थी।
 पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ दिया था बयान
बता दें नूपुर शर्मा के खिलाफ 8 राज्यों में 10 से ज्यादा मुकदमे दर्ज  हौ हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर कर दिया। पैगंबर विवाद को लेकर नूपुर शर्मा को भारत के अलावा विदेशों से भी ‘सर तन से जुदा’ की धमकी दी गई थी। राजस्थान के उदयपुर में भी टेलर कन्हैयालाल और पुणे में केमिस्ट उमेश की हत्या के पीछे एक वजह यह सामने आई थी कि उन लोगों ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।