Search
Close this search box.

PM मोदी और अमित शाह ने स्वामी विवेकानंद को उनकी जयंती पर दी श्रद्धांजलि

नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि देश के लिए उन्होंने जो सपने देखे थे, उन्हें पूरा करने के लिए सभी को साथ मिलकर काम करना जारी रखना चाहिए।

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि देश के लिए उन्होंने जो सपने देखे थे, उन्हें पूरा करने के लिए सभी को साथ मिलकर काम करना जारी रखना चाहिए। 

पीएम मोदी ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि 
मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘मैं स्वामी विवेकानंद को उनकी जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं। उनका जीवन राष्ट्रीय पुनरुद्धार को समर्पित रहा। राष्ट्र निर्माण के प्रति उन्होंने कई युवाओं को प्ररित किया। उन्होंने देश के लिए जो सपने देखे थे, उन्हें पूरा करने के लिए हम साथ मिलकर काम करना जारी रखें।’’ 
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ‘युवा दिवस’ की शुभकामनाएं दी 
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही देशवासियों को ‘युवा दिवस’ की शुभकामनाएं दी। शाह ने ट्वीट कर लिखा, ‘भारत के ज्ञान, संस्कृति और दर्शन को विश्वभर में दिग्विजय कराने वाले स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन व देशवासियों को ‘युवा दिवस’ की शुभकामनाएं। स्वामी जी के प्रगतिशील व प्रेरक विचारों को आत्मसात कर देश के युवा भारत को पुनः विश्व शिखर पर पहुंचा सकते हैं।’ 

मोदी ने कई बार कहा है कि 
विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक दार्शनिक स्वामी विवेकानंद का कोलकाता में 12 जनवरी, 1863 में जन्म हुआ था और उन्हें वेदांत के विचारों को लोकप्रिय बनाने का श्रेय दिया जाता है। मोदी ने कई बार कहा है कि उनके जीवन में विवेकानंद के विचारों का गहरा प्रभाव है। उन्होंने हाल में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में उनकी एक प्रतिमा स्थापित की थी। 
विवेकानंद ने इसे एक मुख्य धर्म के रूप में पहचान दिलाई 
पश्चिमी देशों को वेदांत और योग के बारे में जाग्रत कराने का योगदान स्वामी विवेकानंद को ही जाता है। 19वीं शताब्दी में हिंदू धर्म का प्रचार करके स्वामी विवेकानंद ने इसे एक मुख्य धर्म के रूप में पहचान दिलाई। एक समाज सुधारक के तौर पर स्वामी विवेकानंद ने ‘रामकृष्ण मिशन’ की स्थापना की, जो आज भी अपना काम कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।