लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

यूपी चुनाव: सुभासपा के पांच उम्मीदवार चल रहे आगे, मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी को भी बढ़त

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) गठबंधन में शामिल पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर के नेतृत्व वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) राज्य विधानसभा चुनाव की मतगणना में शाम करीब पांच बजे तक की स्थिति के अनुसार पांच सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में शुरूआती रूझानों के मुताबिक, समाजवादी पार्टी (सपा) गठबंधन में शामिल पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर के नेतृत्व वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) राज्य विधानसभा चुनाव की मतगणना में शाम करीब पांच बजे तक की स्थिति के अनुसार पांच सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।  
ओमप्रकाश राजभर गाजीपुर से आगे  
निर्वाचन आयोग की वेबसाइट के अनुसार करीब पांच बजे तक सुभासपा अध्यक्ष और पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर गाजीपुर जिले की जहूराबाद तथा बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी मऊ सीट से आगे चल रहे हैं। इसके अलावा सुभासपा के तीन अन्य उम्मीदवार भी आगे चल रहे हैं।  
जहूराबाद में ओमप्रकाश राजभर को 61704 मत 
शाम पांच बजे तक अद्यतन वेबसाइट के अनुसार जहूराबाद में ओमप्रकाश राजभर को 61704 तथा उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के कालीचरण को 38,402 मत मिले। वहीं मऊ में अब्‍बास अंसारी को 95,420 तथा उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अशोक कुमार सिंह को 57,723 मत मिले हैं। समाजवादी पार्टी के गठबंधन से सुभासपा राज्य की 18 विधानसभा सीटों पर चुनाव मैदान में थी।  
2019 में राजभर ने भाजपा से विद्रोह कर दिया  
उल्लेखनीय है कि कि 2017 के विधानसभा चुनाव में सुभासपा ने भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और चार सीटों पर जीत के बाद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में ओमप्रकाश राजभर ने कैबिनेट मंत्री की शपथ ली थी। हालांकि कुछ ही महीनों बाद भाजपा से उनकी अनबन शुरू हो गई। 2019 में राजभर ने भाजपा से विद्रोह कर दिया और मंत्री पद छोड़ने के बाद वह लगातार विरोधी तेवर अपनाए रहे। इस बार विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन किया।  
इस दल की सबसे प्रमुख ताकत राजभर बिरादरी है 
सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने 2017 में भाजपा से समझौते के बाद पहली बार विधानसभा चुनाव में जीत का स्वाद चखा था। तब आठ सीटों में से चार सीटों पर सुभासपा को जीत मिली थी। सुभासपा को कुल पड़े वोटों का 0.70 प्रतिशत मत और लड़ी हुई सीटों पर 34.14 प्रतिशत मत मिले थे। पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया, मऊ, गाजीपुर, जौनपुर, आंबेडकरनगर, आजमगढ़, देवरिया आदि जिलों में राजभर बिरादरी के मतदाताओं की अच्छी संख्या है और राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि इस दल की सबसे प्रमुख ताकत राजभर बिरादरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five + fourteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।