Britain Queen Elizabeth II Died : जानिए ! महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के जीवन की 10 अहम बातें - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

Britain Queen Elizabeth II died : जानिए ! महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के जीवन की 10 अहम बातें

एलिजाबेथ, जिन्होंने इस साल सिंहासन पर 70 साल पूरे किए, ब्रिटिश इतिहास में सबसे उम्रदराज और सबसे लंबे समय तक राज करने वाली महारानी हैं।

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के जीवन के बारे में जानने योग्य दस बातें : –
ब्रिटेन की सबसे लंबे समय तक राज करने वाली शाही शख्सियत
एलिजाबेथ, जिन्होंने इस साल सिंहासन पर 70 साल पूरे किए, ब्रिटिश इतिहास में सबसे उम्रदराज और सबसे लंबे समय तक राज करने वाली महारानी हैं।
सितंबर 2015 में उन्होंने अपनी परदादी महारानी विक्टोरिया को पीछे छोड़ दिया, जिन्होंने 63 साल और सात महीने तक शासन किया।
2016 में, एलिजाबेथ थाईलैंड के राजा भूमिबोल अदुल्यादेज के निधन के बाद दुनिया में सबसे लंबे समय तक राज करने वाली महारानी भी बनीं।
2022 में, वह 17वीं शताब्दी के फ्रांसीसी राजा लुई चौदहवें के बाद विश्व इतिहास में दूसरी सबसे लंबे समय तक राज करने वाली महारानी बनीं। लुई चौदहवें ने चार साल की उम्र में सिंहासन संभाला था।
एलिजाबेथ और विक्टोरिया के अलावा, ब्रिटिश इतिहास में केवल चार अन्य सम्राटों ने 50 साल या उससे अधिक समय तक शासन किया है: जॉर्ज तृतीय (59 वर्ष), हेनरी तृतीय (56 वर्ष), एडवर्ड तृतीय (50 वर्ष) और स्कॉटलैंड के जेम्स षष्ठम (58 वर्ष)।
घर पर शिक्षा
अपने समय और पहले के कई राजघरानों की तरह, एलिजाबेथ कभी भी पब्लिक स्कूल नहीं गईं और कभी भी अन्य छात्रों के संपर्क में नहीं आईं। इसके बजाय, उन्होंने अपनी छोटी बहन मार्गरेट के साथ घर पर ही शिक्षा-दीक्षा ली।
उन्हें पढ़ाने वालों में उनके पिता और ईटन कॉलेज के एक वरिष्ठ शिक्षक के साथ कई फ्रांसीसी गुरु शामिल थे। कैंटरबरी के आर्कबिशप ने उन्हें धर्म का पाठ पढ़ाया था। एलिजाबेथ की स्कूली शिक्षा में घुड़सवारी, तैराकी, नृत्य और संगीत का अध्ययन भी शामिल था।
‘‘नंबर 230873’’
द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, युवा राजकुमारी एलिजाबेथ को संक्षिप्त रूप से नंबर 230873, सेकंड सबाल्टर्न एलिजाबेथ एलेक्जेंड्रा मेरी विंडसर ऑफ द ऑक्जिलियरी ट्रांसपोर्ट सर्विस नंबर 1 के रूप में जाना जाने लगा। युद्ध के दौरान कुछ करने के प्रयासों के लिए अपने माता-पिता की अनुमति मिलने के बाद उन्होंने एम्बुलेंस और ट्रक चलाना सीखा। वह कुछ महीनों के भीतर मानद जूनियर कमांडर के पद तक पहुंच गईं।
दूसरों की नकल उतारने में माहिर
एलिजाबेथ ने हमेशा अपनी एक गंभीर छवि पेश की और लोगों ने उनके सपाट चेहरे और उनकी भावशून्यता पर गौर किया, लेकिन जो लोग उन्हें जानते थे, वे उनके एक चुलबुले, शरारती और निजी पलों में नकल उतारने की कला से परिचित थे।
कैंटरबरी के पूर्व आर्कबिशप रोवन विलियम्स ने कहा है कि महारानी ‘‘निजी तौर पर बेहद मजाकिया हो सकती हैं।’’ महारानी के घरेलू पादरी बिशप माइकल मान ने एक बार कहा था कि ‘‘नकल करने की कला महारानी की सबसे मजेदार चीजों में से एक है।’’
हाल ही में उन्होंने प्लेटिनम जुबली समारोह के दौरान अपना शरारती पक्ष दिखाया था, जब उन्होंने एक एनिमेटेड पैडिंगटन बियर के साथ एक कॉमिक वीडियो में अभिनय किया और अपने पर्स में जैम सैंडविच छिपाने की बात कही।
शाही करदाता
वह भले ही महारानी थीं, लेकिन उन्होंने 1992 से करों का भुगतान भी किया। जब 1992 में महारानी के सप्ताहांत निवास विंडसर कैसल में आग लग गई तो जनता ने मरम्मत के लिए लाखों पाउंड के खर्च के खिलाफ विद्रोह कर दिया। लेकिन वह स्वेच्छा से अपनी व्यक्तिगत आय पर कर का भुगतान करने के लिए सहमत हो गईं।
लिटल लिलिबेट
महारानी को उनकी मां, नानी और नानी के सम्मान में एलिजाबेथ एलेक्जेंड्रा मेरी विंडसर ऑफ यॉर्क नाम दिया गया था। लेकिन बचपन में उन्हें प्यार से उनका परिवार लिटल लिलिबेट कहता था – ऐसा इसलिए कहा जाता है, क्योंकि वह ‘‘एलिजाबेथ’’ का ठीक से उच्चारण नहीं कर पाती थीं।
अपनी दादी क्वीन मैरी को लिखे एक पत्र में युवा राजकुमारी ने लिखा: ‘‘प्रिय दादी। प्यारी सी जर्सी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। हमें आपके साथ सैंड्रिंघम में रहना अच्छा लगा। मैंने कल सुबह सामने वाला दांत खो दिया। आपकी प्यारी लिलिबेट।’’
प्रिंस हैरी और मेगन (डचेस ऑफ ससेक्स) ने अपनी बेटी का नाम लिलिबेट डायना रखा, जिसके बाद यह उपनाम अधिक मशहूर हो गया।
जन्म जन्मांतर का संबंध
एलिजाबेथ और उनके पति प्रिंस फिलिप 70 से अधिक वर्षों तक एक दूसरे के साथ का आनंद लिया। उनके चार बच्चे हुए।
महारानी ने अपनी शादी की 50वीं सालगिरह पर फिलिप के बारे में कहा, ‘‘वह काफी सहजता से इन सभी वर्षों में मेरी ताकत बने रहे हैं।’’
उनकी कहानी 1939 में शुरू हुई, जब ग्रीस के 18 वर्षीय नौसैनिक कैडेट राजकुमार फिलिप को 13 वर्षीय एलिजाबेथ के मनोरंजन के लिए भेजा गया था। इसके कई वर्षों बाद फिलिप को क्रिसमस पर विंडसर कैसल में शाही परिवार में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था, जहां उन्होंने अपने प्रेम का इजहार किया था।
इस जोड़े ने 1947 में वेस्टमिंस्टर एबे में शादी की। जब फिलिप की 2021 में 99 साल की उम्र में मृत्यु हो गई, तो उनके बेटे एंड्रयू के अनुसार, वह एलिजाबेथ के जीवन में एक ‘‘विशाल शून्य’’ छोड़ गए।
जन्मदिन
एलिजाबेथ का जन्म 21 अप्रैल 1926 को हुआ था, लेकिन कभी-कभी जनता के लिए भ्रमित कर देने वाला होता था कि कब जश्न मनाया जाए। उनके ‘‘आधिकारिक जन्मदिन’’ के लिए कोई सार्वभौमिक रूप से निर्धारित दिन नहीं था – यह जून में पहला, दूसरा या तीसरा शनिवार होता था और सरकार द्वारा तय किया जाता था।
ऑस्ट्रेलिया में उनका जन्मदिन जून के दूसरे सोमवार को मनाया जाता था, जबकि कनाडा में महारानी विक्टोरिया के जन्मदिन 24 मई को या उससे पहले सोमवार को एलिजाबेथ का जन्मदिन मनाया जाता था। केवल महारानी और उनके करीबी लोगों ने निजी समारोहों में उनका वास्तविक जन्मदिन मनाया।
कुत्तों से प्यार
यह सर्वविदित था कि एलिजाबेथ कुत्तों से बेहद प्यार करती थीं – राजकुमारी डायना ने कथित तौर पर कुत्तों को महारानी के साथ ‘‘चलती कालीन’’ कहा था, क्योंकि वह हर जगह उनके साथ होते थे।
एक बेहद प्यारी लड़की
महारानी अनिवार्य रूप से पॉप गीतों का विषय बन गईं। बीटल्स ने उन्हें ‘‘हर मेजेस्टी’’ गीत के साथ अमर कर दिया और उन्हें एक ‘‘बेहद प्यारी लड़की’’ बताया। पॉल मेकार्टनी द्वारा गाया और 1969 में रिकॉर्ड किया गया यह गीत ‘‘एबी रोड’’ एल्बम के अंत में दिखाई दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − 13 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।