लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

इजराइल के रक्षा मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को लेकर अनिश्चितता की स्थिति

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के पांच दिन पहले अपने रक्षा मंत्री को बर्खास्त करने के फैसले के बाद स्वत:स्फूर्त सामूहिक प्रदर्शन

कुछ लोग सोचते हैं कि इज़राइल की रक्षा मंत्री वास्तव में अपने काम में अच्छे हैं, और अन्य लोग सोचते हैं कि वह इतनी अच्छे नहीं हैं।  निश्चित रूप से नहीं जानते कि कौन सही है। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के पांच दिन पहले अपने रक्षा मंत्री को बर्खास्त करने के फैसले के बाद स्वत:स्फूर्त सामूहिक प्रदर्शन शुरू हुए जिसके बाद देश में जनजीवन अस्त-व्यस्त होने का खतरा पैदा हो गया। इसके बाद इजरायल के नेता को न्यायिक प्रणाली में सुधार की अपनी विभाजनकारी योजना को निलंबित करने के लिए मजबूर होना पड़ा। हालांकि c के एक प्रवक्ता ने कहा कि उन्होंने इजराइल के रक्षा मंत्री योआव गैलेंट को कभी औपचारिक निष्कासन पत्र नहीं भेजा। शुक्रवार की स्थिति के अनुसार गैलेंट प्रभार संभाल रहे थे। नेतन्याहू की सुनियोजित न्यायिक बदलाव की योजना की आलोचना की वजह से उन पर बर्खास्तगी की तलवार लटकी।
1680273846 untitled 2 copy.jpg52354234534534
अजरबैजान के विदेश मंत्री का स्वागत किया
गैलेंट के सहयोगियों ने कहा कि रक्षा मंत्रालय में सामान्य कामकाज हो रहा है। स्थानीय मीडिया में इस सप्ताह खबर प्रकाशित की गयीं कि नेतन्याहू इस बारे में विचार कर रहे हैं कि गैलेंट की जगह उनकी दक्षिणपंथी लिकुड पार्टी के दिग्गजों में से किसी को काबिज किया जाए। इस तरह गैलेंट अनिश्चितता की स्थिति का सामना कर रहे हैं। गैलैंट ने इस सप्ताह अजरबैजान के विदेश मंत्री का स्वागत किया, दो सैन्य अड्डों का दौरा किया और मंगलवार को हुई सुरक्षा कैबिनेट की बैठक में हिस्सा लिया।
शासकों से खतरों का सामना करता है
इजराइल के महत्वपूर्ण रक्षा मंत्रालय के भविष्य को लेकर सवाल उठ रहे हैं। जिसने वेस्ट बैंक पर इजरायल के 55 साल पुराने सैन्य कब्जे को कायम रखा है और ईरान, लेबनान के हिजबुल्लाह आतंकवादी समूह और गाजा पट्टी के उग्रवादी हमास शासकों से खतरों का सामना करता है। इन सबको देखते हुए नेतन्याहू के दक्षिणपंथी गठबंधन में तनाव साफ झलक रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।