लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

ज्ञानवापी : दोनों पक्ष मिलकर निकालें हल

जिस गति से वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद का विवाद बढ़ रहा है, उसे देखते हुए ज्यादा समय नहीं लगेगा जब मामला इतना गंभीर हो जाएगा कि मुस्लिम और हिंदू एक-दूसरे के खिलाफ हो जाएंगे। संक्षेप में कहें तो मुगल आक्रमणकारी औरंगजेब द्वारा 1669 में एक शिव मंदिर के ऊपर बनाई गई मस्जिद उसी तरह बन सकती है, जैसे बाबर द्वारा बनाई गई मस्जिद अयोध्या में बनाई गई थी और जिसका, सड़कों पर और एक के बाद एक केंद्र सरकारों के ऊपरी स्तरों पर लंबी लड़ाई के बाद देश की सर्वोच्च अदालत द्वारा एक ‘सौहार्दपूर्ण’ समाधान खोजा गया।
चार साल पहले सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी के बाद बने भव्य राम मंदिर को 23 जनवरी को भक्तों के लिए खोल दिया गया था। इससे एक दिन पहले देश भर के चुनिंदा वीवीआईपी व वीआईपी और साधु संतों की मौजूदगी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यजमान की भूमिका निभाते हुए रामलला की भव्य और दिव्य मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की थी। उधर, ज्ञानवापी मस्जिद मामले में अदालतों ने हाल के हफ्तों में कई महत्वपूर्ण फैसले दिए हैं। वास्तव में, पिछले ही बृहस्पतिवार को ज्ञानवापी मस्जिद के दक्षिणी तहखाने में प्रार्थना सुनी गई, क्योंकि एक दिन पहले वाराणसी जिला न्यायाधीश ने तीस साल के अंतराल के बाद पुजारियों के एक परिवार को यहां पूजा करने की अनुमति दी थी। इस आदेश के बाद जिला प्रशासन के अफसरों ने रात भर काम करके दक्षिणी तहखाने को घेरने वाले स्टील बेरिकेड्स को काटा था। मुकदमे के वादी शैलेन्द्र कुमार पाठक के परिवार के सदस्यों द्वारा यहां श्रृंगार गौरी एवं अन्य देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना की गई। दिलचस्प बात यह है कि वाराणसी के जिला न्यायाधीश अजय कृष्ण विश्वेसा, जिन्होंने पिछले सप्ताह पूजा की अनुमति दी, के लिए यह सेवानिवृत्ति से पहले आखिरी कार्य दिवस था।
निस्संदेह, यह सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी दोनों समुदायों के सद्भावना वाले पुरुषों और महिलाओं पर है कि ज्ञानवापी मामला रामजन्मभूमि की राह पर न चले। दरअसल, लंबे समय तक चला लेकिन सफल रहा रामजन्मभूमि अभियान, दोनों समुदायों के नेताओं के लिए एक सबक की तरह है।
हिंदुओं और मुसलमानों के बीच सौहार्द के लिए यह जरूरी है कि एक और भीषण संघर्ष को सिर उठाते ही कुचल देने की आवश्यकता है। मुसलमानों को इस बात की सराहना करने की ज़रूरत है कि ज्ञानवापी नाम भी एक मस्जिद के लिए अलग है। यदि ऐतिहासिक सबूतों की कमी थी कि मस्जिद वास्तव में काशी विश्वनाथ मंदिर के आंशिक खंडहरों पर बनाई गई थी, तो भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा अदालत के आदेश पर किए गए सर्वेक्षण के हालिया निष्कर्षों ने इसे विधिवत रूप से प्रस्तुत किया है। दरअसल, वाराणसी में विवादित स्थल पर जाने वाला कोई भी आम आदमी हिंदू मंदिरों के पारंपरिक प्रतीकों को नोटिस किए बिना नहीं रह सकता।
यदि लखनऊ और नई दिल्ली के तत्कालीन शासकों ने दूरदर्शिता दिखाई होती तो यह विवाद लगातार कांग्रेस सरकारों के लिए इतना बड़ा सिरदर्द नहीं बन पाता। आजादी के तुरंत बाद मुस्लिम पक्ष ने वर्षों बाद भी सौहार्दपूर्ण रवैया अपनाया लेकिन मुस्लिम वोटों को एकजुट करने की कांग्रेस की आवश्यकता से उसकी हठधर्मिता और बढ़ गई। आसान भाषा में कहे तो ऐसे मामलों में टालमटोल करना अनुपयोगी है वास्तव में तर्कसंगत समाधान खोजना भी जोखिम भरा है। यह देखते हुए कि पीएम मोदी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत दोनों ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद अपने संबोधन में सांप्रदायिक सद्भाव पर जोर दिया था। अब उन्हें ज्ञानवापी विवाद को सुलझाने के लिए पहल करते हुए इसका पालन करना चाहिए। मोदी के इस स्वागत योग्य दावे के पीछे की भावना है कि राम ‘समस्या नहीं बल्कि समाधान हैं’, कि ‘वह सबके हैं’ को ज्ञानवापी विवाद को तर्कसंगत तरीके से समाप्त करना चाहिए। यह उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने पूजा स्थल अधिनियम 1991 के तहत मालिकाना हक के मुकदमों की स्थिरता के खिलाफ मस्जिद अधिकारियों की चुनौती को खारिज करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश को बरकरार रखा। यह कानून हिंदुओं को भूमि मालिकाना हक के मुकदमे दायर करने से नहीं रोकता है, चाहे वह कोई भी हो वाराणसी में ज्ञानवापी या मथुरा में शाही ईदगाह। यह निष्कर्ष निकालना आसान है कि अभी ज्ञानवापी विवाद और बाद में शाही ईदगाह विवाद, दोनों समुदायों को आमने-सामने टकराव की ओर अग्रसर करेगा। ऐसे में समझदारी इसी में है कि सांप्रदायिक सद्भाव के लिए इन संभावित खतरों को यथाशीघ्र टाला जाए। अंततः इन संभावित बारूद के ढेरों को निष्क्रिय करने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है।
नई दिल्ली और लखनऊ में मौजूदा शासनों द्वारा राजनीतिक कौशल की आवश्यकता है और मोदी-योगी टीम यह कर सकती है, अगर वे एकजुट हो जाएं।

– वीरेंद्र कपूर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।