Search
Close this search box.

रोम रोम में बसने वाले राम

रोम रोम में बसने वाले राम

रोम रोम में बसने वाले राम:  भारत जैसे भूखंड में करोड़ों लोगों के हृदयार्विंद में बसने वाले प्रभु श्री राम एक आस्था और धर्म के प्रतीक हैं ।  संपूर्ण मानव जाति को ध्यान में रखकर प्रभु श्री राम को मर्यादा पुरुषोत्तम  की उपाधि मिली जिसमें सभी धर्म और जाति समुदाय के लोग हैं ; जहाँ आज तक उनकी अविरल मनोरम छवि विद्यमान है।

“ब्रह्मांड निकाया निर्मित माया रोम रोम प्रति बेद कहै”, तुलसीदास जी ने रामचरितमानस में कहा – बालरूप श्री राम ने माता कौसल्या को अपना अखंड अद्भुत रूप दिखलाया, जिसके एक-एक रोम में करोड़ों ब्रह्माण्ड व्याप्त हैं ।

Lord Rama Hindu God hd wallpaper photos pictures images e1704540707231

यह अतिशयोक्ति नहीं कि इस लेख के प्रेरणास्रोत बने पंजाब केसरी के प्रमुख संपादक श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा जी और मेरी भावनाओं को अगर आज लेखनी में परिवर्तित करने की बलवती इच्छा हुई तो श्रेय उनके लिखित ‘रोम रोम में बसने वाले राम’ सीरीज को मिलती है खासकर जब पंजाब केसरी की चेयरमैन और सात्विक विचारों वाली श्रीमती किरण चोपड़ा जी ने कल राम धुन से ओतप्रोत वीडियो सन्देश भेजा।

हिन्दू पंचांग के अनुसार जनवरी 22, 2024, सोमवार पौष माह के शुक्ल पक्ष द्वादशी तिथि है – पौष शुक्ल पक्ष द्वादशी, अनला संवत्सर विक्रम संवत 2080, शक संवत 1945 (शोभकृत संवत्सर)। अयोध्या में भगवान राम के मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा होगी यानी 22 जनवरी को रामलला विराजमान होंगे। इस दिन सोमवार पड़ रहा है और कूर्म द्वादशी है।

Ram Mandir2
सत्य है जब श्री राम का इस धरा पर हजारों वर्षों पहले अवतरण हुआ था शायद ही कोई प्रमुख समुदाय सनातन धर्म से हटकर दिखा हो। लेकिन बिडम्वना है जिस पुरुषोत्तम राम ने सबरी के जूठे बेर बहुत ही सहजता से खाये हो, केवट के नाव पर चढ़ने से पहले अपनी शांत कृतज्ञ प्रतिभा से सभी प्रश्नों का जवाब दिया हो, सभी विद्वानों और मर्मज्ञों को अपनी सदाचार धर्मज्ञता का परिचय दिया हो उनके जन्मस्थान की सुनिश्चिता उच्चत्तम न्यायलय के आदेश के पश्चात प्राप्त हुआ, क्या ये अब भी विवाद या किसी तरह के टिप्पणी से रहित हो जैसी अमन की कामना की जा सकती है, हमें ये भी साबित करना होगा कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है।

श्री राम किसी एक खास धर्म और जाति के प्रतीक होंगें परन्तु उनके अपने अनूठे चरित्र ने सभी मानव जाति के लिए बतौर उदाहरण बनकर बौद्धिक, मौलिक और वैयक्तिक मूल्यों को प्रभावित किया है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने अपनी अगवाई में राम मंदिर की प्राणप्रतिष्ठा की, साथ ही देश विदेश में लोगों को राम रस से सरावोर किया जो अतुल्य सराहनीय है। यह वास्तव में आत्मदृढ़ता तथा संकल्प का परिचायक है।

02 01 2024 ayodhya ram mandir indore 2 1 2024

श्री राम की छवि को किसी धर्म विशेष या समुदाय से जोड़ने की भूल ना करें क्यूंकि समाज में कैसी व्यवस्था हो, लोगों का घर से लेकर बाहर, सामाजिक मूल्यों को किस तरह जीया जाये यह राम चरित्र से बेहतर कहीं भी व्याख्यान में नहीं है और ना ही मूल्यों की कसौटी पर आंकलन किया गया। हर इन्सान जितनी खामियों के साथ जी रहा है उसे स्वयं इस बात की भलीभांति समझ है कि राम को साधारण मानव की तरह समझना, अल्पबुद्धिमता का परिचायक होगा।

पूर्व काल में मानव जाति को संदेश देने के लिए नैतिक मूल्यों का उदाहरणस्वरूप जीना, सभी धर्मों को पूरा करना, वचन का पालन करना तथा जीवन के हर पहलू में अपने वचन या कर्मों से जीवन शैली को प्रभावित करने वाले व्यक्तित्व असाधारण, विलक्षण गुणों से युक्त सदाचारी करुणानिधान राम ने जो नींव रख दी है वो अनंत काल तक अविस्मरणीय रहेगा।

हमें अपनी पारस्परिक मतभेद और वैमनस्यता से परे हटकर सामाजिक उत्थान की ओर बढ़ने की आवश्यकता है, करोड़ों की आस्था का सम्मान करना होगा, इसके आलावा बेहतर इंसानियत के लिए विभिन्न धर्मों के श्रेष्ठ सम्मान्नित व्यक्तितव को सराहना भी एक महत्वपूर्ण कदम है समाज निर्माण में।

प्रभु श्री राम केवल एक अविरल मनमोहक धर्मज्ञ व्यक्तितव ही नहीं बल्कि धर्मावतार हैं जिनके जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की प्राणप्रतिष्ठा होना एक ऐतिहासिक  घटना है जिसका इंतज़ार लाखों करोड़ों आँखें बेसव्री से कर रही, जो भविष्य में राम राज्य जैसी व्यवस्था देश दुनिया में कायम करने का पहला आयाम।

Dr. Abinash Jha

One Response

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 − 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।