PAK के कब्जे वाले कश्मीर से आए लोगों की कॉलोनियां नियमित की जाएंगी: मनोज सिन्हा

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर (पिओजेके) से आए लोगो को खुद को शरणार्थी न मांनने की गुहार की। उन्होंने सोमवार को कहा कि उनकी कॉलोनियों को नियमबद्ध करने के लिए प्रशासन कदम उठायेगा क्योंकि उनके अधिकारों को सुरक्षा देना हमारी जिम्मेदारी है।उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि पीओजेके भारत का अखंड भाग है तथा ‘अखंड भारत’ का सपना आने वाले समय में सत्य साबित होगा

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर (पिओजेके) से आए लोगो को खुद को शरणार्थी न मांनने की  गुहार की।  उन्होंने सोमवार को कहा कि उनकी कॉलोनियों को नियमबद्ध करने के लिए प्रशासन कदम उठायेगा क्योंकि उनके अधिकारों को सुरक्षा देना  हमारी जिम्मेदारी  है।उन्होंने इस बात पर जोर  दिया कि पीओजेके भारत का अखंड  भाग  है तथा ‘अखंड भारत’ का सपना आने वाले समय में सत्य साबित होगा।जम्मू के बाहरी क्षेत्र भौर में विस्थापितों के लिए विशेष शिविर का उद्घाटन करने के बाद एक कार्यक्रम को संबोधित  करते हुए  कहा, आप भारत देश के नागरिक हैं और धरती पुत्र हैं।  आप अखंड भारत के गौरवशाली  नागरिक है और आपको देश एवं जम्मू कश्मीर के विकास के लिए आगे आना चाहिए। 
पीओजेके को कब्जे में लेने के पक्ष में लगाये जा रहे नारों के बीच सिन्हा ने कहा, ‘‘ पीओजेके भारत का अखंड  भाग  है और रहेगा। भूमि  पर कोई भी शक्ति  उसे हमसे अलग नहीं कर सकती और मुझे इस बात पर कोई शक नहीं है कि हमारे पुरखों ने ‘अखंड भारत’ का जो स्वपन देखा था, एक दिन सत्य  बनकर रहेगा।उन्होंने कहा कि विस्थापित लोगों को मुख्यधारा में लाये बिना ‘नये जम्मू कश्मीर’ का विकास अधूरा है। उन्होंने कहा,  हम सभी का कल्याण सुनिश्चित करने के लिए तत्पर  हैं ताकि वे अपनी असली क्षमता को को पहचान सकें और राष्ट्र-निर्माण में सहयोग  कर सकें।उन्होंने कहा, ‘‘विस्थापित परिवारों की कॉलोनियों को नियमित करने के लिए कदम उठाये जायेंगे। उनके अधिकारों को सुरक्षा प्रदान करना तथा युवाओं की अकांक्षाओं को पूरा करने के लिए उचित माहौल बनाना हमारी जिम्मेदारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − sixteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।