नए साल के तोहफे के रुप में, राजस्थान के अजमेर जिले को ‘मिलने जा रहा है साइबर थाना’

अपराधियों के राजस्थान पुलिस मुख्यालय के निर्देशों पर नववर्ष के शुरुआत में ही विशेष प्रशिक्षण के बाद साइबर थाना शुरु कर दिया जाएगा

राजस्थान में इन दिनों साइबर अपराध की घटनाएं बढ़ती जा रही है, जहां अपराधी ठग के लिए अपने आप को डिजिटल कर लिया है, यानी अपने आप को चोरी करने के लिए अपडेट कर लिया है। और इन अपराधियों के द्वारा कई तरह के साइबर अपराध की घटनओं को अंजाम दिया जाता है। वहीं सरकार ने इसपर कठोर कदम उठाते हुए पहले भी कई बड़े फैसले उठाई है। और इस बार वह राजस्थान के अजमेर में एक साइबर थाना की शुरूवात करने जा रहें हैं।
जहां अपराधियों को पकड़ने के लिए यह बड़ा कदम उठाया जा रहा है। बता दें कि अपराधियों के राजस्थान पुलिस मुख्यालय के निर्देशों पर नववर्ष के शुरुआत में ही विशेष प्रशिक्षण के बाद साइबर थाना शुरु कर दिया जाएगा। यह साइबर थाना अजमेर के पुलिस लाइन स्थित भवन में संचालित होगा। 
साइबर थाना सक्रिय रूप से संचालित
अजमेर के पुलिस अधीक्षक चूनाराम जाट ने साइबर थाने को सक्रिय रूप से संचालित करने के लिए उपाधीक्षक से कांस्टेबल तक के चुनिंदा कार्मिकों का चयन कर लिया है। प्रारंभ में साइबर थाने के लिए सीओ के अलावा सीआई व अन्य बारह कार्मिकों को लगाया गया है। साइबर थाने की पहली सर्किल इंस्पेक्टर नीतू राठौड़ होगी जो वर्तमान में यातायात पुलिस शाखा की प्रभारी है।
गौरतलब है कि, बढ़ते साइबर क्राइम की रोकथाम के लिए राज्य के पुलिस महानिदेशक उमेश मिश्रा के निर्देशों पर साइबर थानों को प्रभावी ढंग से संचालित किया जाना प्रस्तावित है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 + 20 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।