LAC पर भारत और चीन की सेना के बीच एक बार फिर दिख सकती है तनातनी, इस रिपोर्ट में किया गया दावा

लद्दाख क्षेत्र में चीन की काफी अधिक आर्थिक और रणनीतिक जरूरत है, और यही वजह है कि वह आक्रामक तरीके से अपनी सेना की तैनाती कर रहा है

लद्दाख क्षेत्र में चीन की काफी अधिक आर्थिक और रणनीतिक जरूरत है, और यही वजह है कि वह आक्रामक तरीके से अपनी सेना की तैनाती कर रहा है ताकि वह भारत की ओर अधिक क्षेत्रों पर दावा करने के लिए बिना बाड़बंदी वाले स्थानों पर दबदबा कायम कर सके। यह बात एक उच्चस्तरीय बैठक में वितरित किए गए एक दस्तावेज में कही, जिसमें कहा गया है कि आने वाले समय में पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के सैनिकों में और भी झड़पें हो सकती है। इससे पहले यह खुलासा हुआ था कि भारत ने 65 में ऐसे 26 पेट्रोलिंग पॉइंट पर अपना नियंत्रण खो दिया है, जहां बीएसएफ की पेट्रोलिंग नहीं हो रही थी।
भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारियों द्वारा तैयार दस्तावेज
पिछले सप्ताह हुई पुलिस महानिदेशकों की बैठक में भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारियों द्वारा तैयार किए गए संबंधित दस्तावेज में कहा गया है कि देश की सीमा रक्षा रणनीति को भविष्य के लिए आर्थिक प्रोत्साहन के साथ एक नया अर्थ और उद्देश्य दिया जाना चाहिए। पत्र में कहा गया कि रणनीति को क्षेत्र-विशिष्ट बनाया जाना चाहिए, उदाहरण के लिए तुरतुक या सियाचिन सेक्टर और दौलत बेग ओल्डी या देपसांग मैदान में सीमा पर्यटन को आक्रामक रूप से बढ़ावा दिया जा सकता है। 
1674815849 dfbhdjfj
चीन अक्रामक रूप से तैनात कर रहा अपनी सेना
डीबीओ में काराकोरम दर्रे के बारे में दस्तावेज में कहा गया कि इसका भारत के रेशम मार्ग के इतिहास से एक प्राचीन संबंध है, और घरेलू पर्यटकों के लिए क्षेत्र खोलने से इसके दूरदारज स्थित होने का विचार खत्म होगा। दस्तावेज में कहा गया कि दर्रे पर साहसिक अभियानों को फिर से शुरू किया जा सकता है और ट्रेकिंग और लंबी पैदल यात्रा के क्षेत्रों को सीमित तरीके से खोला जा सकता है। इसमें कहा गया कि पूर्वी सीमा क्षेत्र में चीन की काफी अधिक आर्थिक और रणनीतिक आवश्यकता है और वह आक्रामक रूप से अपनी सेना की तैनाती कर रहा है, ताकि वह भारत की ओर गश्त बिंदुओं से चिह्नित गैर-बाड़बंदी वाले क्षेत्रों पर दावा जताने के लिए दबदबा कायम कर सके।  
1674815936 untitled 2 copy
हाई लेवल मीटिंग में सामने आया डॉक्यूमेंट
तीन दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और देश के करीब 350 शीर्ष पुलिस अधिकारियों ने भी शिरकत की। दस्तावेज में कहा गया है कि डेमचोक में छोटा कैलाश पर्वत को पूजा-अर्चना करने के वास्ते पर्यटकों के लिए खोला जा सकता है और इससे उन धर्मपरायण हिंदुओं के लिए धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा मिल सकता है जो मानसरोवर यात्रा पर नहीं जा सकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 1 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।