Search
Close this search box.

दशक के अंत तक भारत की ऊर्जा जरूरत दोगुनी : मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani)

पंडित दीनदयाल ऊर्जा विश्वविद्यालय (पीडीईयू) के 11वें दीक्षांत समारोह में बोलते हुए, अंबानी ने कहा कि भारत को हरित, टिकाऊ और समावेशी विकास में वैश्विक नेता के रूप में बदलने को सुनिश्चित करने के लिए ऊर्जा परिवर्तन सबसे महत्वपूर्ण कारक बन गया है। और पीडीईयू इस क्षेत्र में शिक्षा और अनुसंधान में सबसे आगे है।

  • 45 मेगावाट की सौर पीवी उत्पादन
  • उच्च गुणवत्ता वाली खेल प्रतिभाओं को तैयार करना
  • अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी अन्वेषण और कौशल विकास

उन्होंने कहा, पीडीईयू ने अपने छात्रों को अत्याधुनिक ऊर्जा प्रौद्योगिकियों में प्रशिक्षित करने के लिए चार ऐतिहासिक पहल शुरू की हैं जो दुनिया को भविष्य की पीढ़ियों के लिए एक हरा-भरा और बेहतर स्थान बनाएगी। एक, सौर ऊर्जा उत्पादन में छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए 45 मेगावाट की सौर पीवी उत्पादन लाइन; दो, छात्रों को ऊर्जा भंडारण की तकनीक सिखाने के लिए एक स्मार्ट हाइब्रिड माइक्रो-ग्रिड सिस्टम; तीन, अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी अन्वेषण और कौशल विकास के लिए एक ऐप्पल लैब; और चार, उच्च गुणवत्ता वाली खेल प्रतिभाओं को तैयार करने के लिए एक मल्टी-गेम स्पोर्ट्स एरेना।

विश्व स्तरीय बुनियादी ढांचे के निर्माण

अंबानी ने कहा, विनम्रता और गर्व दोनों के साथ, मैं सूचित करना चाहूंगा कि रिलायंस फाउंडेशन ने विश्व स्तरीय बुनियादी ढांचे के निर्माण और पीडीईयू को बदलने के लिए 150 करोड़ रुपये की कुल प्रतिबद्धता में से 130 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान पहले ही कर दिया है। उन्होंने कहा, पीडीईयू एक ऊर्जा विश्वविद्यालय से कहीं अधिक है… यह एक ऐसी भट्टी है जहां स्वच्छ, हरित और टिकाऊ कल की कल्पना को वास्तविकता में बदला जा रहा है।

भारत आर्थिक विकास का एक अभूतपूर्व विस्फोट

अगले 25 वर्षों में, भारत आर्थिक विकास का एक अभूतपूर्व विस्फोट देखेगा। आज 3.5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था से यह 2047 तक 40 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा। अंबानी ने कहा, और इस विकास को बढ़ावा देने के लिए देश को भारी मात्रा में ऊर्जा की आवश्यकता होगी – स्वच्छ, हरित ऊर्जा जो मानव प्रगति के लिए प्रकृति का गला नहीं घोटेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 1 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।