Search
Close this search box.

संसद में हंगामे और नारेबाजी को लेकर 19 सांसद निलंबित, स्पीकर को दिखाई थी तख्तियां

संसद के मानसून सत्र के दौरान संसद के वेल में प्रवेश करने व नारेबाजी के करने पर राज्यसभा के 19 सांंसदों को निलंबित किया है। इनमें TMC सांसद सुष्मिता देव, डॉ. शांतनु सेन और डोला सेन सहित कुल 19 सांसद सम्मलित हैं, जिन्हें सप्ताह के शेष भाग के लिए सदन से निलंबित किया गया है।

संसद के मानसून सत्र के दौरान संसद के वेल में प्रवेश करने व नारेबाजी के करने पर राज्यसभा के 19 सांंसदों को निलंबित किया है। इनमें TMC सांसद सुष्मिता देव, डॉ. शांतनु सेन और डोला सेन सहित कुल 19 सांसद सम्मलित हैं, जिन्हें सप्ताह के शेष भाग के लिए सदन से निलंबित किया गया है। निलंबित किए गए सांसदों में सुष्मिता देब, डॉ. शांतनु सेन और डोला सेन के अलावा मौसम नूर, शांता छेत्रीय, नदीमुल हक, अबीरंजन विश्‍वास  (सभी तृणमूल कांग्रेस) के अलावा ए. रहीम और शिवदासान (वामदल), कनिमोझी (डीएमके), बीएल यादव (टीआरएस) और मोहम्‍मद अब्‍दुल्‍ला शामिल हैं।

उच्च सदन की 20 मिनट तक स्थगित रही कार्यवाही
दरअसल, विपक्षी सांसदों के हंगामे की वजह से उच्च सदन की कार्यवाही 20 मिनट के लिए टाली गई। लोकसभा में हंगामे को लेकर स्पीकर ओम बिरला ने कांग्रेस के चार सदस्यों को पूरे सत्र के लिए निलंबित करने के एक दिन बाद यह कार्रवाई की है। लोकसभा में हंगामे के लिए कांग्रेस सांसद ज्योतिमणि, मनिकम टैगोर, टीएन प्रतापन और राम्या हरिदास को सोमवार को निलंबित कर दिया गया।

सोमवार को स्पीकर ओम बिरला ने विपक्षी सांसदों के लगातार हंगामे के बीच दोपहर 2.30 बजे लोकसभा की कार्यवाही स्थगित करते हुए कड़े कदम उठाने के संकेत दिए थे। उन्होंने तख्तियां दिखाने वालों को सदन से बाहर फेंकने के संकेत दिए थे। इसके बाद सभी दलों की बैठक बिड़ला के कक्ष में हुई, जिसमें विपक्षी दलों ने स्पीकर बिरला को सदन में तख्तियां न दिखाने और हंगामा न करने का आश्वासन दिया था। विपक्षी सांसदों ने सदन के सुचारू संचालन में सहयोग का आश्वासन भी दिया था, इसके बावजूद सदन में तख्तियां उठाई गईं और हंगामा हुआ। इसके बाद स्पीकर बिड़ला ने कल कड़ा फैसला लेते हुए चार सांसदों को पूरे सत्र के लिए निलंबित करने का फैसला किया। 

गौरतलब है कि बढ़ती महंगाई और आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी के मुद्दे पर तख्तियां और बैनर लेकर हंगामा कर रहे विपक्षी सांसद मांग कर रहे हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी संसद आएं और इन मुद्दों पर उनकी बात सुनें। विपक्ष लगातार महंगाई के मुद्दे पर चर्चा की मांग कर रहा है। संसद का मानसून सत्र 18 जुलाई से शुरू हो गया है, लेकिन विभिन्न मुद्दों पर विपक्ष के हंगामे के कारण कार्यवाही लगातार बाधित हुई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।