अदालत के निगरानी में होगी संदेशखाली मामले की जांच, CBI को मिली जिम्मेदारी - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

अदालत के निगरानी में होगी संदेशखाली मामले की जांच, CBI को मिली जिम्मेदारी

Sandeshkhali Case: आज अदालत में चीफ जस्टिस ने कहा की सभी तथ्यों को देखते हुए इस मामले में एक स्वतंत्र जांच की जरूरत है। CBI को सौंपा गया बंगाल के संदेशखाली मामले की जांच हालंकि इस मामले कि जांच अदालत कि निगरानी में करवाई जायेगी।

Highlights:

  • सीबीआई को मिली सन्देशखाली मामले की जांच 
  • चीफ जस्टिस ने कहा- ‘मामले की गंभीरता देखते हुए एक स्वतंत्र जांच की जरूरत’
  • TMC नेता शेख शाहजहां समेत तीन आरोपियों पर है महिला उत्पीड़न और जमीन कब्जे का आरोप

 

कलकत्ता हाईकोर्ट ने पश्चिम बंगाल के संदेशखाली केस की जांच CBI से करवाने के निर्देश दे दिए हैं। यह मामला संदेशखाली की महिलाओं ने तृणमूल कांग्रेस (TMC) के नेताओं पर कथित रूप से यौन उत्पीड़न और जबरन जमीन कब्जे का आरोप लगाया था। इस मामले में शेख शाहजहां, शिबू हाजरा और उत्तम सरदार आरोपी हैं। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

संदेशखाली केस से जुड़ी 5 जनहित याचिकाओं पर चीफ जस्टिस टीएस शिवज्ञानम और जस्टिस हिरण्मय भट्टाचार्य की बेंच ने सुनवाई कर रहे थे। बेंच ने कहा की इस मामले की जाँच अदालत की निगरानी में सीबीआई द्वारा की जायेगी । जांच के बाद सीबीआई को इसकी रिपोर्ट हाईकोर्ट को सौंपना होगा। इस मामले पर 2 मई को फिर से सुनवाई होगी।

मामले की जांच में राज्य सरकार नहीं कर पायेगी दखल

कोर्ट के इस आदेश के बाद ममता सरकार किसी प्रकार से सीबीआई की जांच में अड़ंगा नहीं डाल पाएगी। दरअसल, राज्य में किसी भी प्रकार के जांच के लिए सीबीआई को पहले राज्य सरकार की अनुमति लेनी होती है। इस मामले में कोर्ट के इस आदेश के बाद अब सीबीआई को राज्य सरकार से किसी प्रकार की अनुमति लेने की जरुरत नहीं पड़ेगी।

बता दें कि 4 अप्रैल को ही कलकत्ता हाईकोर्ट ने इस मामले पर तल्ख टिप्पणी को कहा था कि संदेशखाली का 1% सच भी शर्मनाक है। अदालत ने कहा था की इस पुरे प्रकरण में सत्ताधारी पार्टी और प्रशासन की जिम्मेदारी है। यह लोगों की सुरक्षा का मामला है।

क्या हुआ था सन्देशखाली में ?

पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में तृणमूल कांग्रेस के नेता शेख शाहजहां और उसके दो अन्य साथियों जिनका नाम शिबू हाजरा और उत्तम सरदार पर आरोप है कि वे महिलाओं का लंबे समय से गैंगरेप व यौन शोषण कर रहे थे। इस केस में अब तक शिबू हाजरा, उत्तम सरदार, शाहजहां समेत 18 लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। और जांच जारी है।

दरअसल, शेख शाहजहां TMC का जिलास्तर नेता रहा है। सबसे पहले राशन घोटाले में ED ने 5 जनवरी को उसके घर पर छापेमारी किया गया था। तब उसके 200 से ज्यादा सपोर्टर्स ने टीम पर अटैक कर दिया था। इस मामले में अफसरों को जान बचाकर भागना पड़ा। उसके बाद शाहजहां फरार हो गया था। काफी मशक्कत के बाद उसे 55 दिन बाद पकड़ा गया था।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।   

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।