टारगेट किलिंग पर फारूक अब्दुल्ला का बड़ा बयान, कहा-यह तब तक नहीं रुकेगा जब तक…

जम्मू-कश्मीर से लगातार टारगेट किलिंग की घटनाएं सामने आ रही हैं। शनिवार को शोपियां जिले में कथित तौर पर आतंकवादियों ने एक कश्मीरी पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी।

जम्मू-कश्मीर से लगातार टारगेट किलिंग की घटनाएं सामने आ रही हैं। शनिवार को शोपियां जिले में कथित तौर पर आतंकवादियों ने एक कश्मीरी पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी। टारगेट किलिंग की इन घटनाओं पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला बड़ा बयान दिया है।
फारूक अब्दुल्ला ने सोमवार को कहा कि यह तब तक नहीं रुकेगा जब तक न्याय नहीं मिल जाता। पहले वे (BJP) कहते थे कि इस तरह की हत्याएं अनुच्छेद 370 के कारण हो रही हैं, लेकिन अब इसे समाप्त कर दिया गया है, तो ऐसी हत्याएँ क्यों नहीं रुकी हैं? कौन जिम्मेदार है?
KFF ने ली हत्या की जिम्मेदारी
दक्षिण कश्मीर जिले के चौधरी गुंड इलाके में पूरन कृष्ण भट की हत्या ने एक बार फिर कश्मीर में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा का सवाल खड़ा हो गया है। भट्ट पर उनके आवास के निकट शनिवार को हमला किया गया। घाटी से बाहर खुद को स्थानांतरित करने की मांग कर रहे सैकड़ों कश्मीरी पंडित कर्मचारियों ने पूरन कृष्ण भट की हत्या के विरोध में शनिवार को जम्मू-अखनूर मार्ग अवरूद्ध कर दिया। आतंकी संगठन कश्मीर फ्रीडम फाइटर (केएफएफ) समूह ने इस हत्या की जिम्मेदारी ली। 
आतंकियों के निशाने पर कश्मीरी पंडित 
गौरतलब है कि दक्षिण कश्मीर के शोपियां में ही इससे पहले आतंकवादियों ने कश्मीरी पंडित सुनील कुमार भट की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इससे पहले 31 मई को कुलगाम जिले में आतंकियों ने एक सरकारी महिला कर्मचारी रजनी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वहीं, 12 मई को कश्मीर के बड़गाम जिले में आतंकवादियों ने राहुल भट्ट की भी गोली मारकर हत्या कर दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।