Search
Close this search box.

भारत और पाक जम्मू-कश्मीर का हल निकालें तो यह देश के लिए अच्छा होगा : महबूबा

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि अगर पाकिस्तान के PM ने जम्मू-कश्मीर के मसले को हल करने और दोनों देशों के रिश्तों को अच्छा करने की बात कही तो यह होना चाहिए।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे का राग अलापा। उन्होंने कहा कि हम भारत सहित अपने सभी पड़ोसियों के साथ शांति चाहते हैं। इसपर संयुक्त राष्ट्र में भारत मिशन के प्रथम सचिव मिजिटो विनिटो ने पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई। इस मुद्दे पर जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ़्ती का बयान सामने आया है।
महबूबा मुफ्ती ने कहा कि अगर पाकिस्तान के PM ने जम्मू-कश्मीर के मसले को हल करने और दोनों देशों के रिश्तों को अच्छा करने की बात कही तो यह होना चाहिए। जैसे वाजपेयी जी के समय दोनों देशों ने बैठकर बात की थी वैसे ही दोनों देश जम्मू-कश्मीर का हल निकालें तो यह देश के लिए भी अच्छा होगा। 
3 युद्ध हुए लेकिन, इससे केवल दुख, गरीबी और बेरोजगारी बढ़ी : PAK
दरअसल, हाल ही में UNGA में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि भारत को रचनात्मक जुड़ाव के लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए विश्वसनीय कदम उठाने चाहिए। हम पड़ोसी हैं और हमेशा के लिए रहेंगे। चुनाव हमारा है कि हम शांति से रहें या एक-दूसरे से लड़ते रहें। उन्होंने कहा कि 1947 के बाद से हमारे बीच 3 युद्ध हुए हैं और इसके परिणामस्वरूप दोनों तरफ केवल दुख, गरीबी और बेरोजगारी बढ़ी है। 
पाक पीएम ने कहा कि शांतिपूर्ण बातचीत और चर्चा के माध्यम से अपने मतभेदों, हमारी समस्याओं और हमारे मुद्दों को हल करना अब हम पर निर्भर करता है। मुझे लगता है कि अब समय आ गया है कि भारत इस संदेश को समझे कि दोनों देश एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। युद्ध कोई विकल्प नहीं है, केवल शांतिपूर्ण बातचीत से ही मुद्दों का समाधान हो सकता है, ताकि आने वाले समय में दुनिया और अधिक शांतिपूर्ण हो सके।
पाक PM के बयान पर भारत का तीखा जवाब
पाक पीएम के इस बयान के जवाब में भारत मिशन के प्रथम सचिव मिजिटो विनिटो ने उत्तर के अधिकार का प्रयोग करते हुए कहा यह खेदजनक है कि पाकिस्तानी पीएम ने भारत के खिलाफ झूठे आरोप लगाने के लिए इस सभा का मंच चुना। उन्होंने अपने ही देश में कुकर्मों को छिपाने और भारत के खिलाफ कार्रवाई को सही ठहराने के लिए ऐसा किया है।
प्रथम सचिव ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा, ‘एक देश जो दावा करता है कि वह अपने पड़ोसियों के साथ शांति चाहता है, वह कभी भी सीमा पार आतंकवाद को प्रायोजित नहीं करेगा और न ही मुंबई आतंकवादी हमले के योजनाकारों को आश्रय देगा। शांति की बात करके आतंकवाद फैलाना आपका काम है।’
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मिजिटो विनिटो ने भारत के खिलाफ झूठे आरोप लगाने से पहले पाकिस्तान को अपने गिरेबान में झांकने की याद दिलाई। विंटो ने जोर देकर कहा कि जम्मू-कश्मीर पर दावा करने के बजाय इस्लामाबाद को सीमा पार आतंकवाद को रोकना चाहिए। 
उन्होंने कहा, ‘जब अल्पसंख्यक समुदाय की हजारों की संख्या में युवा महिलाओं को एसओपी के रूप में अपहरण कर लिया जाता है, तो हम इस मानसिकता के बारे में क्या निष्कर्ष निकाल सकते हैं?’ उन्होंने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के खिलाफ जारी अत्याचारों की विश्व को याद दिलाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − 7 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।