राजस्थान में आचार संहिता के लागू होने के महज 48 घंटे में 500 से ज्यादा शिकायतें

देश में होने वाले विधानसभा चुनावों का ऐलान के बाद 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा का बिगुल बज चुका है। जिसमें अगर राजस्थान की बात करें तो यहां विधानसभा चुनाव-2023 को लेकर यहां चुनाव आयोग और जिला प्रशासन एक्टिव मोड पर है। चुनाव को लेकर यहां आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर कड़ी निगरानी रखने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने ‘सी विजिल’ एप पर बहुत सारी शिकायतें देखने को मिली है। जिसे लेकर मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने बताया कि विधानसभा आम चुनाव 2023 में यह एप मददगार साबित हो रहा है।

48 घंटे में प्रदेश भर से 500 से ज्यादा शिकायतें

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि प्रदेश में आदर्श आचार संहिता के लागू होने के महज 48 घंटे में प्रदेश भर से 500 से ज्यादा शिकायतें प्राप्त हुई हैं, जिनमें से रिटर्निंग ऑफिसर्स ने 134 शिकायतों को सही पाया और उनका तय समय सीमा में निस्तारण किया गया। आपको बता दें कि 115 शिकायतें रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा खारिज की गई, जबकि 6 शिकायतें अभी जांच दलों और रिटर्निंग ऑफिसर्स के द्वारा निर्णय के लिए लंबित हैं। शेष 242 शिकायतों को जिला नियंत्रण कक्ष की टीम ने अपने स्तर पर खारिज कर दी गई है, जहां मतदान दलों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में अनुपस्थित रहने वाले 6 कार्मिकों को निलंबित किया गया है।

सबसे ज्यादा शिकायतें 79 जयपुर जिले से प्राप्त

इनमें आदर्श आचार संहिता की सबसे ज्यादा शिकायतें 79 जयपुर जिले से प्राप्त हुईं। और सबसे ज्यादा कार्यवाही भी जयपुर जिले के रिटर्निंग आफिसर्स ने की यहां 37 शिकायतों का निस्तारण किया गया। ‘सी-विजिल’ किसी भी व्यक्ति को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की रिपोर्ट करने की अनुमति देता है. आम लोग इस एप का इस्तेमाल करके कदाचार की घटना की जानकारी भेज सकता है। 100 मिनट की समय सीमा में अधिकारी समस्या का निस्तारण करेंगे. इस एप की सबसे खास बात यह है कि शिकायतकर्ता की पहचान गोपनीय रखी जाने का भी विकल्प है. कोई भी व्यक्ति एन्ड्रॉयड आधारित ‘सी-विजिल’ एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकता है।

मतदान अधिकारी प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू

विधानसभा चुनाव के लिए जयपुर जिले में पीठासीन अधिकारियों एवं मतदान अधिकारी प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हुआ है. जिला निर्वाचन अधिकारी प्रकाश राजपुरोहित ने प्रशिक्षण कार्यक्रम में अनुपस्थित रहने वाले 6 कार्मिकों को निलंबित कर दिया गया है। जिसमें कार्यकारी अभियंता रोहित कमठान, व्याख्याता राम प्रसाद रैगर, अतिरिक्त प्रशासनिक अधिकारी राशिद मोहम्मद को पीठासीन अधिकारी के पद के लिए प्रशिक्षण में निर्देशित किया गया था लेकिन अनुपस्थित रहने पर इन्हें निलंबित कर दिया गया है। वरिष्ठ अधिकारी राजसिंह, भंडार निरीक्षक रितेश रोनालिया एवं कनिष्ठ सहायक राहुल शर्मा को बतौर मतदान अधिकारी प्रशिक्षण के लिए निर्देशित किया गया था लेकिन प्रशिक्षण शिविर में अनुपस्थित रहने के कारण अनुशासनात्मक कार्रवाई के तहत इन्हें निलंबित कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + twenty =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।