Breast Cancer को लेकर डरा रही यह रिपोर्ट, 2040 तक प्रतिवर्ष 10 लाख लोगों की हो सकती है मौत This Report Is Scaring About Breast Cancer, 10 Lakh People May Die Every Year By 2040

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

Breast cancer को लेकर डरा रही यह रिपोर्ट, 2040 तक प्रतिवर्ष 10 लाख लोगों की हो सकती है मौत

स्तन कैंसर (Breast cancer) अब दुनिया की सबसे आम कैंसर बीमारी है और इस रोग से 2040 तक प्रति वर्ष 10 लाख लोगों की मौत होने की आशंका है। यह बात ‘लैंसेट’ की एक नयी रिपोर्ट से सामने आयी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 के अंत तक पांच वर्षों में लगभग 78 लाख महिलाओं के स्तन कैंसर से पीड़ित होने का पता चला और उस वर्ष लगभग 685,000 महिलाओं की इस बीमारी से मृत्यु हो गई। रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि वैश्विक स्तर पर, स्तन कैंसर के मामले 2020 में 23 लाख से बढ़कर 2040 तक 30 लाख से अधिक हो जाएंगे, जिससे निम्न और मध्यम आय वाले देश प्रभावित होंगे।

  • स्तन कैंसर अब दुनिया की सबसे आम कैंसर बीमारी है
  • इससे 2040 तक प्रति वर्ष 10 लाख लोगों की मौत की आशंका है
  • 2020 के अंत तक 685,000 महिलाओं की इस बीमारी से मृत्यु हो गई

रिपोर्ट में रोगियों को दिए गए सुझाव

Cancer 1

रिपोर्ट में कहा गया है कि कि 2040 तक बीमारी के चलते सालाना 10 लाख लोगों की मौत होने की आशंका है। लैंसेट रिपोर्ट में स्तन कैंसर के कारण भयावह असमानताओं और लक्षणों, निराशा व वित्तीय बोझ से पीड़ित होने की ओर इशारा किया गया है। रिपोर्ट में इन चुनौतियों से निपटने के लिए रोगियों और स्वास्थ्य पेशेवरों के बीच बेहतर संचार का सुझाव दिया गया है, जिससे जीवन की गुणवत्ता, शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है और जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

रोगियों और डॉक्टर्स के बीच संचार जरुरी

Cancer2

एमोरी यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन, अमेरिका की रेशमा जगसी ने कहा, ”महिलाओं के मौलिक मानवाधिकारों को ऐतिहासिक रूप से सभी जगह पुरुषों की तुलना में कम सम्मान दिया गया है, जिसका प्रभाव रोगी के रोग से उबरने की क्षमता पर पड़ता है।” रेशमा जगसी ने कहा, ”प्रत्येक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर को किसी न किसी रूप में संचार कौशल प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहिए। रोगियों और स्वास्थ्य पेशेवरों के बीच संचार की गुणवत्ता में सुधार करना, हालांकि सरल प्रतीत होता है, लेकिन इसके गहरे सकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं जो स्तन कैंसर से निपटने में रोगी की मदद कर सकते हैं।”

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + 17 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।